CentralBank of India-Services
Central Bank Logo

New Pension System - NPS

नई पेंशन प्रणाली (एन. पी. एस.)


सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने पीएफआरडीए (पेंशन निधि विनियामक एवं विकास प्राधिकरण) के साथ उनकी नई पेंशन प्रणाली (एनपीएस) के लिए एक पीओपी (पॉइंट ऑफ प्रेजेन्स) के रूप में कार्य करने के लिए करार किया है. हमारे बैंक ने पॉइंट ऑफ प्रेजेन्स -सेवा प्रदाता (पीओपी-एसपी) के रूप में कार्य करने के लिए 26 शाखाओं का चयन किया है.

नई पेंशन प्रणाली की प्रमुख वैशिष्टयताएं और संरचना

  1. नई पेंशन प्रणाली निर्धारित अंशदानों के आधार पर है. वह बैंक शाखाओं और पोस्ट ऑफिस आदि के विद्यमान नेटवर्क का उपयोग अंशदान जमा करने के लिए करेगी. नियोक्ता और/अथवा स्थान में परिवर्तन होने पर संचयन का अंतरण निर्बाध रूप से किया जा सकेगा. यह निवेश विकल्पों का समूह और निधि प्रबंधक भी उपलब्ध कराएगी- नई पेंशन योजना स्वैच्छिक है.
  2. तथापि यह प्रणाली केन्द्र सरकारी सेवाओं (सशस्त्रा सेनाओं को छोडकर) नव-नियुक्त व्यक्तियों के लिए अनिवार्य है. मासिक अंशदान नियोक्ता द्वारा प्रदत्त वेतन और डीए का 10% होगा और उतना ही अंशदान केन्द्र सरकार द्वारा दिया जाएगा. तथापि, जो व्यक्ति सरकारी कर्मचारी नहीं हैं उनके लिए सरकार अंशदान नहीं देगी. अंशंदान तथा उसपर प्राप्त प्रतिफल अनाहरित पेंशन खाते में जमा किया जाएगा. परिभाषित लाभ पेंशन और जीपीएफ के विद्यमान प्रावधान केन्द्रीय सरकार की सेवा के नव नियुक्त व्यक्तियों पर लागू नहीं होंगे.
  3. उक्त पेंशन खाते के अलावा प्रत्येक व्यक्ति स्वैच्छिक टीयर-II आहरित खाता अपने विकल्प पर रख सकता है. सरकार इस खाते में कोई अंशदान नहीं देगी. इन आस्तियों का प्रबंधन भी पेंशन के समान ही किया जाएगा. इस खाते में किया गया संचयन किसी भी समय, बिना कोई कारण बताए आहरित किए जा सकता हैं.
  4. व्यक्ति सामान्यत: 60 वर्ष की आयु पर अथवा उसके पश्चात इस पेंशन प्रणाली को छोड सकता है. प्रणाली छोडने पर व्यक्ति को पेंशन खाते में जमा की गई राशि का न्यूनतम 40% अइटी की खरीद में लगाना होगा. सरकारी कर्मचारियों के मामलों में अॅन्युइटी कर्मचारी के आश्रित माता-पिता तथा सेवा-निवृत्ति के समय पति/पत्नी को सम्पूर्ण जीवित काल में पेंशन प्रदान करेंगे- व्यक्ति को पेंशन खाते में जमा की गई शेष राशि का एक-मुश्त भुगतान प्राप्त होगा- जिसका विनियोग किसी भी तरह से करने के लिए वह मुक्त होगा/होगी- व्यक्ति को 60 वर्ष की आयू से पूर्व पेंशन प्रणाली छोडने की छूट होगी, तथापि ऐसे मामले में अनिवार्य वाख्रषकी (अन्युइटाजेशन) पेंशन खाते में जमा की गई राशि का 80% होगी.
  5. प्रणाली में चयन करने के लिए एक अथवा अधिक रिकार्ड रखने वाली एजेंसियां (सीआरए), अनेक पेंशन निधि प्रबंधक (पीएफएम) होंगे जो योजनाओं की विभिन्न श्रेणियां प्रस्तुत करेंगे. सहभागी इकाईयां (पीएफएम, सीआरए आदि) पिछले कार्य निष्पादन एवं नियमित एनएवी के बारे में आसानी से समझने योग्य सूचना उपलब्ध कराएगें ताकि, व्यक्ति को योजना का चयन करने हेंतु उपलब्ध विकल्पों की जानकारी प्राप्त हो सके.
अधिक विवरणों के लिए वेबसाइट यूआरएल:
नई पेंशन योजना के बारे में जानने के लिए पेंशन फंड रेग्यूलेटरी एण्ड डेव्लपमेन्ट अथॉरिटी वेबसाइट देखें-

एनपीएस पर बारंबार पूछे जाने वाले प्रश्नों के लिए
Click here to view website

पीएफआरडीए की अधिकृत वेबसाइट
Click here to view website

एनएसडीएल वेबसाइट
Click here to view website

नई पेंशन प्रणाली (एनपीएस) के बारे में अपने प्रश्नों के लिए आप सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया में निम्न पर संपर्क कर सकते हैं:
टेलीफोन: 022-22153691
फैक्स: 022-22153821
ईमेल:cmoper@centralbank.co.in
अथवा निम्न को लिखें:
श्री एस. एन. झा
मुख्य प्रबंधक -परिचालन विभाग
सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया
विंग - इ, 21 वा माला, मेकर टॉवर,
कफ परेड, मुंबइ 400005
महाराष्ट्र

Page Under Construction

Page Under Construction

(c) 2016 Central Bank of India. All rights reserved
आपकी आगंतुक संख्या हैं : 220480