Central Bank of India
Central Bank Logo

8% राहत बॉंड योजना/Relief Bond Scheme

  • मुख्तारनामा के अंतर्गत आवेदन
    1. यदि आवेदन आवेदक के मुख्तारनामा धारक द्वारा हस्ताक्षरित है जो भारत से अनुपस्थित है, मुख्तारनामा में सरकारी प्रतिभूतियों के मूलधन पर ब्याज प्राप्त करने का प्रावधान और/अथवा परक्राम्य करने अथवा उन्हें अंतरित करने हेतु उचित उल्लेख होना चाहिए. स्वीकृत शक्तियां शर्तरहित होनी चाहिए.
    2. यदि मुख्तारनामा भारत से बाहर निष्पादित की गई है, यह उस स्थान के एक नोटरी पब्लिक द्वारा एवं भारतीय दूतावास/राजनयिक द्वारा अपनी मुहर के साथ सत्यापित की जानी चाहिए. तथापि, हंगरी, यूनाइटेड किंगडम, बेलज्यिम, न्यूजीलेंड एवं आयरलेंड जो नोटरी अधिनियम, 1952 के अनुच्छेद 14 के अंतर्गत भारत के साथ पारस्परिक व्यवस्था रखते हैं वे विधिवत निष्पादित के तौर पर जानी जा सकती हैं.
    3. मुख्तारनामा भारतीय स्टैम्प अधिनियम की अनुसूची I के 48 अनुच्छेद के अंतर्गत उचित प्रकार से स्टैम्पित होना चाहिए जो प्रत्येक संबंधित राज्य में लागू हो. अधिनियम में पृथक एवं निश्चित हित धारण किए हुए अधिसंख्य व्यक्तियों द्वारा स्वीकृति मुख्तारनामा, समग्र राशि शुल्क के साथ स्टैम्पितहोनी चाहिए, जो भुगतान की जायेगी यदि प्रत्येक व्यक्ति एक पृथक शक्ति के साथ निष्पादित किया है. सामान्यतया, दो या अधिक विभिन्न क्षमताओं में एक व्यक्ति द्धारा निष्पादित मुख्तारनामा उदाहर्णार्थ , जब वह अपनी स्वयं की संपत्ति एवं अन्य किसी संपत्ति के संबंध में उसकी ओर से कार्य करने हेतु एक अटर्नी नियुक्त करता है उसे जो नियंत्रित करना पड़्ता है उदाहर्णार्थ एक अवयस्क बच्चे का संरक्षक अटर्नी समग्र शुल्क के साथ स्टैम्पित होनी चाहिए जो भुगतान की जायेगी यदि उसने विभिन्न क्षमताओं के संबंध में पृथक शक्ति निष्पादित की है.
    4. एकल लेनदेन को कवर करने के लिए स्वीकृत इसमें नामित मुख्तारनामा भारतीय स्टैम्प अधिनियम, 1989 की अनुसूची I के अनुच्छेद 48(सी) के अंतर्गत स्टॉम्प शुल्क लगायी जायेगी.
    5. एक संयुक्त धारक मुख्तारनामा के अंतर्गत, दानग्राही/यों ब्याज आहरण के लिए तथा केवल नवीकरण उद्देश्य के लिए प्रतिभूति प्राप्त करने हेतु समर्थ होना चाहिए
    6. धिकृत खंड धारित इंडेक्स कार्ड सामान्यतया सरकारी प्रतिभूतियों में सौदा अटर्नी को मुख्तारनामा को क्रियान्वित करने हेतु अधिकृत करता है.
      • किसी सरकारी प्रतिभूतियों अथवा किसी विवरण जो भी मामला हो की प्रतिभूति की खरीद, विक्रय, परांकिती, अंतरण करना.
      • सभी अथवा किसी ऐसी प्रतिभूतियों पर संचयी देय के कारण सभी ब्याज एवं लाभांश की मांग एवं प्राप्त करना.
      • सभी देनदारियों की मांग एवं प्राप्ति, कुल धनराशि, मूलधन, ब्याज, लाभांश एवं मेरे से संबंधित जिस भी प्रकृति का देय, जो अब अथवा किसी समय पर इसके पश्चात देय अथवा भुगतान हो सकेगा.
      • आवेदन फॉर्म, संविदा, समझौता, अंतरण, स्वीकार्यता, प्राप्तियां, ऋणशोधन, लाभांश, अधिशेष अथवा अन्य दस्तावेज हस्ताक्षर करना.
      • कथित बैंक को कोई सरकारी प्रतिभूतियां, शेयर्स, स्टॉक अथवा ऐसी किसी कंपनी अथवा निगम में डिबेंचर अनुमोदन एवं अंतरण करना, कथित बैंक सहित जैसा कि उपर्युक्त वर्णित है अथवा स्टॉक, निधि, डिबेंचर, अथवा, किसी वर्णन प्रतिभूतियां जो भी मामला हो, जो समय-समय पर अथवा, बहराल सुरक्षित अभिरक्षा अथवा अन्यथा और किसी ओवरड्राफ्ट, सामान्य बेलेंस खाता अथवा अन्यथा के मामले में हमारे द्धारा संयुक्त रूप से कथित बैंक को देय किसी धनराशि के लिए किसी समय पर कथित बैंक के कब्जे में हैं
      • सभी अथवा उपर्युक्त कथित किसी उद्देश्य हेतु एक स्थापन्न को नियुक्त करने के लिए एवं ऐसा स्थानापन्न खुशी-खुशी वापस लेने के लिए नियुक्त करना.
      • सरकारी प्रतिभूतियों में मेरे धनराशि निवेश करना.
    7. 7.मूल में संबद्ध मुख्तारनामा पंजीकरण के लिए आवेदन के साथ प्रस्तुत करना चाहिए तथा इसके साथ ही वापस करना चाहिए.
      • कथित मुख्तारनामा की एक प्रति मजिस्ट्रेट अथवा नोटरी पब्लिक द्वारा विधिवत प्रमाणित .
      • अटॉर्नी के नमूना हस्ताक्षर एक पृथक पेपर शीट पर एक बैंकर/मजिस्ट्रेट अथवा एक विशेष कार्यपालक मजिस्ट्रेट द्वारा विधिवत प्रमाणित.
  • एक अवयस्क की ओर से आवेदन
    1. अवयस्क आवेदक के मामले में जन्मतिथि, संरक्षक का नाम एवं संबंद्ध आवेदन फॉर्म में उचित स्थान पर प्रदर्शित होना चाहिए.
    2. अवयस्क आवेदक के मामले में, संरक्षक और प्रतिपाल्य अधिनियम, 1890 (1890 का 8) के प्रावधानों के अंतर्गत सक्षम न्यायालय द्धारा एक स्वीकृत संरक्षण प्रमाणपत्र प्रस्तुत होना चाहिए. तथापि, एक मुस्लिम अवयस्क का पिता एवं पिता अथवा यदि पिता की मृत्यु हो गई है, हिन्दू अवयस्क की मां आवेदन पर हस्ताक्षर कर सकती हैं और संरक्षण का प्रमाणपत्र प्राप्त किए बिना अवयस्क की ओर से बॉंड की कार्यवाही कर सकता है.
    3. नगरपालिका अथवा अन्य सक्षम स्थानीय प्राधिकारी चर्च, जन्म/शादी के रजिस्ट्रार अथवा एक मजिस्ट्रेट, ग्राम पंचायत मुखिया अथवा अवयस्क का नाम प्रस्तुत करने वाले स्कूल के प्रधानाध्यापक द्वारा जारी जन्म प्रमाणपत्र मूलप्रति और ज़ेरॉक्स प्रति आवेदन पत्र के साथ अवयस्क की ओर से प्रस्तुत की जानी चाहिए.
    4. यह दर्शाता हुआ साक्ष्य कि बच्चा जिन्दा है तथा समय पर बातचीत के लिए सभी मामलों में प्रस्तुत करना चाहिए. संरक्षक द्वारा औपचारिक घोषणा दो सम्माननीय गवाहों के हस्ताक्षरों के साथ तथा उपमहाप्रबन्धक/एकाउंट्स सहायक महाप्रबंधक, लोक ऋण कार्यालय, ट्रेजरी ऑफिसर, एक मजिस्ट्रेट, एक नोटरी अथवा बैंक पदाधिकारी (बैंक पदाधिकारी द्वारा सत्यापित घोषणापत्र एक होना चाहिए जिसकी प्राधिकृत शक्ति बैंक को संबद्ध करेगी उसका प्रतिनिधित्व लोक ऋण कार्यालय में पंजीकृत हो गया है) सामान्यतया पर्याप्त है. घोषणा पत्र राज्य में लागू स्टॉम्प अधिनियम के प्रावधानों किए आधार पर स्टैम्प होना चाहिए. यदि घोषणा पत्र इसके अतिरिक्त राज्य में प्रस्तुत किया जहां निष्पादित होना है स्टैम्प ड्यूटी में अंतर भुगतान करना पड़ेगा. यदि घोषणा पत्र मजिस्ट्रेट अथवा किसी अन्य व्यक्ति जो शपथ अथवा अभिपुष्टि करने के लिए समर्थ है द्वारा अनुप्रमाणित है उसकी उपस्थिति में किया गया है, यह शपथपत्र की तरह स्टॉम्प लगेगा.
  • एचयूएफ के प्रावधान के अंतर्गत आवेदन

    यदि आवेदन एचयूएफ के नाम में प्रस्तुत किया गया है, एचयूएफ का कर्त्ता आवेदन फॉर्म में उचित स्थान पर घोषणा पत्र पर प्रस्तुत करना पड़ेगा.

  • यदि हस्ताक्षर अंगूठा निशानी से हैं, यह दो प्रतिष्ठित व्यक्तियों द्वारा साक्ष्य होना चाहिए. यह दो प्रतिष्ठित व्यक्तियों द्वारा प्रमाणित होना चाहिए. आवेदन पत्र में उचित स्थान पर पूरा नाम, व्यवसाय एवं साक्ष्यकारों का पता भरना चाहिए.
  • अनिवासी भारतीयों द्बारा आवेदन

    अनिवासी भारतीय निवेशकों के मामले में, आवेदन फॉर्म में उचित स्थान पर एक वचन पत्र (निवेशक द्वारा विधिवत हस्ताक्षरित) भरा जाना आवश्यक है.

(c) 2016 Central Bank of India. All rights reserved
आपकी आगंतुक संख्या हैं : 236959